कागज़ों में 27 शौचालय, मोके पर एक भी नहीं - प्रधान का कमाल

2018-03-26 19:15:33.0

उत्तर प्रदेश को अगर घोटाला प्रदेश कहा जाये तो शायद पूरी तरह से ठीक ही होगा।
अगर बात करें सूबे के शाहजहांपुर जिले की तो यह कहना गलत नही होगा कि जिले की 95 फीसद कुर्सियों पर कीबिज लोगो की सासें भी घोटाले पर ही चल रही है।
इन्ही गड़बड़ियो को मोदी योगी सरकारे उप्लब्धी मानकर विकास कहते नही थक रही।
योगी सरकार के विकास के दावों की जमीनी हकीकत आपतक पहुचाने के लिए ने आप्रेशन जन समस्या नामक एक प्रोग्राम शुरू किया है।
आप्रेशन जन समस्या के तहत गुजरे रविवार को एवीएन की टीम शाहजहांपुर जिले के गांव चान्दूपुर पडरी पहुंची।
टीम ने गांव वालों की समस्याओं को जाना, एवीएन ने पाया कि गांव में अभी तक एक भी शौचालय नहीं बनाया गया जबकि गांव की प्रधान पति का कहना है कि उसने 27 शौचालय बनवाये है, प्रधान ने 27 शौचालय किस लोक में जाकर बनवा दिये यह तो प्रधान ही बता सकती है, हमने गांव की दर्जन भर से ज्यादा झोपड़ियों को देखा वहां शौचालय नही दिखे।
कई दर्जन बिध्वा महिलाओ ने बताया कि पहले उनको विध्वा पेंशन मिलती थी लेकिन बीजेपी सरकार बनने के बाद से बन्द कर दी गयी तो कई को आजतक मिली ही नहीं।
गांव में दो दर्जन से ज्यादा गरीबों ने बताया कि ना उनके पास छत है ना खाने को रोटी, खेती नही, मजदूरी नही तो क्या खाकर जिये क्या पहने कहां रहें।
95 फीसदी गांव वालों ने आरोप लगाया कि प्रधान से कहकर थक गये लेकिन नही सुनती। विधायक के बारे पूछने पर सभी ने कहा कि चुनाव के बाद से विधायक को किसी ने नही देखा।

  Similar Posts

Share it
Top