भक्त मस्त - गौमाता पस्त

6 Aug 2018 8:15 PM GMT

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में इलाज और देखभाल की कमी से ना जाने कितने जानवर तड़प तड़पकर मर जाते हैं और ना जाने कितने ही जानवर रोड के किनारे घायल अवस्था में पड़े रहते हैं।

ना तो उन्हें धर्म के ठेकेदार देखने आते है और ना ही गौमाता पर वोट हड़पने वाली बीजेपी के खददरधारी औेर ना ही गौमाता के नाम पर बवाल खड़े करते रहने वाले छुटभैये ही देखते है।

पोलखोल कार्यक्रम के तहत हमारे सहयोगी संदीप शर्मा की अगुवाई में हमारी टीम जा पहुंची बंडा से बिलसंडा मार्ग पर।

इसी रास्ते से सबसे ज्यादा कांवरिया गुजरते हैं लेकिन किसी को तड़पते हुए देखकर गुजरते रहते है किसी को गौमाता पर दया नहीं आती।

इतना ही नही जानवर प्रेम का ढोल पीटने वाली मेनका गांधी को भी जख्मी गौ वंशीय बेजुबान जानवरों की कर्राहट सुनाई नही देती।

ना जाने कितने ही जानवर रोड के किनारे ही अपना दम तोड़ देते हैं लेकिन धर्म के ठेकेदारों की ठेकेदारी यहां बिल में छुप जाती है।

आईये आपको पूरी रिपोर्ट एवीएन टीम के साथ।

  Similar Posts

Share it
Top