लो अब दारूल इफ्ता भी निशाने पर

2018-07-25 19:14:47.0

बरेली में इस्लाम की शरियत को मिटाने की मुहिम चला रही निदा ने अब अहले सुन्नत के मरकज़ी दारूल इफता के खिलाफ भी कदम उठाना शुरू कर दिया है।

निदा ने बरेली एसएसपी दफ्तर पहुंचकर आलाहजहरत दरगाह से फतवा जारी करने वाले शहर इमाम खुर्शीद आलम के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए कहा है। निदा ने सीओ क्राइम राम प्रकाश को बताया कि उसके पति शीरान रजा आलाहज़रत परिवार से संबंध रखते है। उनका विवाह 2015 में शीरान से हुआ था वर्त्तमान में दोनों के बीच कोर्ट में कई मुकदमे चल रहे है। उसके पति शीरान उनके खिलाफ शहर इमाम खुर्शीद आलम से एक फतवा जारी करवाया जिसमे उसे इस्लाम से खारिज करने के साथ बीमार होने पर साथ नही देने , मरने पर कब्रिस्तान में दफन और जनाजे में शामिल नही होने की बात कही है। फतवे में इस बात की हिदायत दी गई निदा से लोग मिले झूले नही। निदा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि फतवा उसके मौलिक हनन के खिलाफ है। फतवे के चलते उनके साथ उनका परिवार भी प्रभावित हो रहा है। उन्होंने फतवा जारी करने वाले खुर्शीद आलम के साथ पति शीरान के साथ काजी अफजल रजवी के खिलाफ एसएसपी दफ्तर में शिकायत की है कि खुर्शीद के साथ अन्य दो लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्जकर कड़ी कार्यवाही हो।

सीओ रामप्रकाश ने थानाध्यक्ष बारादरी को मामले की जांच करके रिपोर्ट देने को कहा है।

बताते चले कि फतवा कोई भी मुफ्ती मौलबी अपने मर्ज़ी से नहीं दे सकता, फतवा र्कुआन और हदीस के नियमो को बताने को कहा जाता है और फतवा सिर्फ इस्लाम के मानने वालो पर लागू होता है किसी गैर इस्लाम पर लागू नहीं होता और जिस तरह का फतवा दिया गया है उस तरह के फतवे से किसी के मोलिक या दूसरे अधिकार का हनन नहीं कहा सकता क्योंकि फतवे में सिर्फ मुस्लिमों को र्कुआन और हदीस का हुक्म दिया गया है।

याद दिला दें कि निदा ने तीन तलाक, हलाला और बहुत से शरई कानून मिटाने की मुहिम छेड़ रखी है, निदा ने कुछ गरीब और अनपढ़ तलाक शुदा मुस्लिम औरतों को मोहरा बनाकर शरियत के खिलाफ मुहिम शुरू की थी, लेकिन फतवा आने के बाद लगभग सभी मुस्लिम औरतों ने तौबा करके कदम पीछे हटा लिये, इससे शरियत मिटाने की मुहिम किसी हद तक कमजोर पड़ गयी।

आपको बतादे कि यह फतवा पहली बार नही आया और सिर्फ सुन्नी मरकज से ही नही आया इससे पहले भी कई बड़े जाने माने मुफ्तियों ने इस तरह की राय दी है एवीएन ने देवबन्द अहले हदीस बरेली मरकजो के जाने माने मुफ्तियो और आलिमो की राय से आपको रूबरू कराया था।

तीन तलाक पर शरियत ना मानने वाले ईमान से खारिज, निकाह खारिज

http://avnn.in/news/video-news/kpkpmlrkd-8-445192

तलाक के नाम पर शरीयत मे बदलाव करने की बड़ी साजिश, खुश होने वालों पर उल्लेमाओं की राय

http://avnn.in/news/bulletin/ovrnfjxr58s-443110

  Similar Posts

Share it
Top