सत्तर साल में एक पुलिया ना बना सके खददरधारी

19 Aug 2018 9:45 PM GMT

आजादी का भ्रम पाले हुए सात दशक का अर्सा गुजर जाने के बाद भी देसियों की सरकारे गुलाम वोटरों को नहर नालो पर पुलिये बनाकर नही दे सकी, यहां यह कहना गलत नही होगा कि इन देसियों से कहीं बेहतर थे विदेशी, जिन्होंने हजारो नहर नदियो पर पुल बनाकर तो दे गये।

आज हम बात कर रहे है यूपी के बिजनोर ज़िले के गांव बुदगड़ी समेत दर्जनों गाँव को किरतपुर से जोड़ने वाले रास्ते पर मालन नदी पर बने पूरी तरह टूट चुके रपटे पुल की।

यह रपटा पुल दशको पुराना पूरी तरह डूब चुका है। कुछ लोगो ने यहां बांस बलली का पुल बना लिया है इससे गुजरने पर लोगो को पैसे देने पड़ते है।

हालात ये है ग्रामीण और स्कूली बच्चे अपनी जिन्दगी ख़तरे में डाल कर इस मौत के रपटे से गुजर रहे है। मालन नदी ऊफान पर है, पानी रपटे के ऊपर से तेज़ रफ़्तार गुजर रहा है।

बिजनोर से अजमल अंसारी और साबिर मलिक रिपोर्ट

  Similar Posts

Share it
Top