बीजेपी को अन्नदाताओं की तीन तलाक़

11 Oct 2018 8:00 PM GMT

कहावत है कि जुल्म सहने की भी एक हद होती है, और जब हुकूमत का जुल्म हद से बढ़ता है तो बगावत लाजमी हो जाती है, ऐसे ही हालात इन दिनों हिन्दोस्तान के नज़र आ रहे है।

लगातार साढे चार साल तक मोदी सरकार के कारनामों, लूट खसोट, साम्प्रदायिक्त को बढ़ावा देने, मुंह खोलने वालों को ठिकाने लगाने, भागीदारों की तिजोरियां भरने के लिए देश की सुरक्छा से खिलवाड़ करने से तंग आकर देश के अन्नदाता ने आखिरकार देश बचाने के लिए कदम बढा ही दिया।

देश को बरबादी से बचाने की शुरूआत भारत सरकार का यूपी के बिजनोर जिले से करदी गयी है यहां अन्नदाताओं ने स्योहारा के गांव पट्टी ओर मखनपुर के किसानो ने भाजपाईयों का गांव में प्रवेश वर्जित करके गांवो के बाहर चेतावनी लिखे बोर्ड लगा दिये है।

हालाकि इस विरोध से यह मान लेना अहमकाना होगा कि बीजेपी अगला चुनाव हार जायेगी, क्योंकि बीजेपी की सरकार वोटरों की महरबानी से नहीं बल्कि ईवीएम देवी के चमत्कार से बनती है।


  Similar Posts

Share it
Top