गुलामों से बद्तर ज़िन्दगी इन्दरपुर गांव वासियों की

14 Aug 2018 3:41 AM GMT

दो दिन बाद 15 अगस्त यानी आज़ादी के भ्रम की एक और सालगिरह

यूपी का शाहजहांपुर ज़िला जिसका 95 फीसद हिस्सा आज भी गुलामी की जिन्दगी जीने पर मजबूर रखा गया है, वैसे तो इस जिले में बीजेपी के 2 मंत्री हैं लेकिन इस जिले के कई गांव ऐसे भी हैं जो की आज़ादी की राह देख देख कर थक चुका हैं।

गांवों में ना तो कोई जनप्रतिनिधि आया और ना ही कोई अधिकारी। हमारी टीम पहुंची शाहजहांपुर के बंडा ब्लाक के गांव इंदरपुर में यहां के लोगों का कहना है कि यह गांव समग्र गांव घोषित किया गया था लेकिन इस गांव की हालत बद से बदतर हो चुकी है इस गांव के रहने वाले लोगों को कीचड़ में अपनी जिंदगी गुजारनी पड़ रही है क्योंकि इस गांव में ना तो ग्राम प्रधान ने ही कोई विकास कार्य करवाया और ना ही यहां के किसी विधायक ने चुनाव के समय विकास के लंबे लंबे दावे ठोकने वालों की हकीकत खोलकर रख दी।

इंदरपुर गांव में लोगों का कहना है कि यहां पर अभी कोई खास बरसात नहीं हुई है लेकिन फिर भी इस गांव के हर घर में पानी भरा हुआ है ना तो कोई पक्का रास्ता गुजरने के लिए है और ना ही पानी के निकास के लिए कोई जगह यहां तक की ग्राम समाज की जमीनों पर भी कुछ खास लोगों ने अपना कब्जा कर रखा है जिसकी वजह से पानी का कोई भी निकास नहीं है ना ही इस गांव में कोई नाली का निर्माण हुआ है और ना ही यहां का मुख्य रास्ता बन पाया आइए जानते हैं यहां के लोगों से कि वह लोग किस तरीके से इस गंदी गलियों में जीने को मजबूर हैं।

  Similar Posts

Share it
Top