मुस्लिम इलाकों से कोसों दूर मोदी, योगी, गौतम की स्मार्ट सिटी

2014 में चुनाव जीतने से पहले पीएम नरेन्द्र मोदी ने सबका साथ सबका विकास का ढोल पीटा था लेकिन सरकार बनते ही सबका साथ, सबका विकास बदलकर सबका साथ कुछ का विनाश में बदल गया।

आज हम बात कर रहे है यूपी के बरेली की।

मोदी, योगी गौतम की स्मार्ट सिटी बरेली, स्मार्ट सिटी का ढिंढोरा पीटने पर करोड़ो रूपये उड़ा दिये गये,

हम यह नहीं कह रहे कि मेयर गौतम ने काम नही किया।

विकास करने का काफी काम किया और कर भी रहे है, लेकिन धर्म और पार्टी के भरपूर भेदभाव के साथ

एक तरफ गौतम ने जहां अतिक्रमण हटाने में खुले धर्मवाद और पार्टी वाद के साथ, मतलब मीरा की पैंठ, जगतपुर और ईंट पजो इलाके में मुस्लिमों के पूरे पूरे मकान ढहाकर बच्चों के सिरों से छतें छीन ली तो वहीं खुर्रम गौटिया इलाके में एक इंच भी अतिक्रमण नहीं छुआ गया जबकि यह पूरा एरिया हाईवे पर मकानात बने है।

चलिये आज हम आपको मोदी योगी और गौतम की स्मार्ट सिटी का दीदार कराते है।

मेयर गौतम का विकास मुस्लिम इलाकों से कोसो दूर रखा जा रहा है, यानी स्वालेनगर, बाकरगंज, हजियापुर, रबड़ीटोला, सैलानी, जगतपुर, रोहिली टोला, नवादा शेखान वगैरा में मेयर गौतम ने विकास पर रोक लगा रखी है।

आप जो तस्वीरें देख रहे हैं ये नज़ारा है पुराना शहर के रोहिली टोला की।

तस्वीरों को देखकर ही आप अन्दाज़ा लगा सकते है कि विकास के कामों मे किस हद तक धार्मिक भेदभाव अपनाया जा रहा है।

  Similar Posts

Share it
Top