भूख से किसानों की संख्या कम होती रहेगी तो आमदनी तो बढ़ेगी ही

2018-07-21 15:40:06.0

भूख से किसानों की संख्या कम होती रहेगी तो आमदनी तो बढ़ेगी ही

किसानों की आय दोगुनी हो गई-- मोदी

(संदीप शर्मा) शाहजहांपुर- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 21 जुलाई 2018 की रैली किसी व्यक्ति विशेष की रैली न दिखकर भाजपा की रैली दिखी। ज़िले के किसी भी नेता को अतिरिक्त वज़न देते प्रधानमंत्री नहीं दिखे।

भाजपा के संदर्भ में 2019 की तैयारी के लिये मोदी फैक्टर के अतिरिक्त कुछ भी अहम होने नही जा रहा है। भाजपा के सर्वोच्च नेता नरेंद्र मोदी सीधे जनता से संवाद स्थापित करके एक साफ संकेत दे गए। चूंकि, राजनीति में संकेत और हाव भाव का बड़ा महत्व होता है इसलिए ज़िले के सभी स्थानीय नेताओं के लिये एक निहितार्थ ढूँढने का विकल्प मोदी दे गए हैं।

ज़िले के लिये कोई बड़ी घोषणा नहीं हुयी। ज़्यादातर कद्दावर अपना अपना स्थापित कद न्यायोचित ठहराने के प्रयास में मोदी के 'औरा' में खो गये। शायद राजनीति में नरेंद्र मोदी का व्यक्तित्व इतना बड़ा हो चुका है कि उन्हें लगता है 2019 में उन्हीं की सरकार बनेगी इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का घमंड समझा जाए या फिर उनका अभिमान फिलहाल यह तो सब आने वाला समय ही बताएगा की केंद्र सरकार किसानों के लिए क्या कर रही है किसान मर रहे हैं लेकिन प्रधानमंत्री मोदी कहते हैं कि हम किसानों की आय दोगुनी कर रहे हैं इसमें से कुछ उदाहरण आपके सामने हैं जैसे कि नोटबंदी में किसानों को कितना लाभ मिला गेहूं तोल सेंटरों पर किसानों का नहीं बिचौलियों का गेहूं खरीदा गया है कर्जमाफी पर किसी के 10 रुपए माफ हुए तो किसी के ₹ 5 से ज्यादा किसानों का कल्याण कौन सी सरकार कर सकती है जितना कल्याण मोदी के नेतृत्व वाली सरकार कर रही है फिलहाल मंच पर कुछ भी होता हो लेकिन जमीनी हकीकत में तो किसान की हालत बद से बदतर है यह सब मंच पर ही बोलना अच्छा लगता है क्योंकि उन्हें जवाब देने वाला बेचारा किसान तो अपनी किस्मत पर रो रहा है आखिर वह क्या करें खाद दुगनी हो गई डीजल के दाम डेढ़ गुना हो गए लेकिन सरकार ने किसान की फसल के ₹200 क्या बढ़ा दिए ना जाने क्या तीर मार दिया

(शाहजहांपुर से संदीप शर्मा की रिपोर्ट)

Sandeep Sharma

Sandeep Sharma

Our Contributor help bring you the latest article around you


  Similar Posts

Share it
Top