चोर चोर मौसेरे भाई

4 April 2019 8:15 PM GMT

चोर चोर मौसेरे भाई

(संदीप शर्मा)

समाजवादी सरकार के दौर में भारतीय जनता पार्टी जिन लोगों को भ्रष्ट और गुंडा कहा करती थी आज उन्हीं सब को अपनी गोद में बैठाकर बीजेपी ने जनता को यह तो बता हीे दिया कि चोर चोर मौसेरे भाई यानी कि हम भी कम भ्रष्टाचारी नहीं है हम भी करोड़ों की हेराफेरी करते हैं जनता से वादे करते हैं पैसा सरकार से लेते हैं लेकिन जमीन पर कुछ नहीं लगाते वह सब कागजों में लगाते हैं। गुंडाराज की उपाधि देने वाली भारतीय जनता पार्टी खुद ही उन गुंडों भ्रष्टाचारियों को अपने साथ जोड़ रही हैं जिन्हें कभी यही पार्टी बड़े भ्रष्ट नेताओं के रूप में कहते नहीं थकती थी हम बात कर रहे हैं शाहजहांपुर कि लोकसभा सीट की एक तरफ सपा बसपा गठबंधन सीट पर अमरचंद जोहर मैदान में उतरे हैं तो वहीं दूसरी तरफ अरुण सागर भी मैदान में उतरे हैं जोकि कुछ ही समय में बीजेपी में शामिल हुए थे पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया जो लोग कई वर्षों से पार्टी की सेवा करते आ रहे हैं बल्कि उन लोगों को टिकट दे दिया जो कुछ ही दिनों में भाजपा में शामिल हुए हैं और सत्ता जाते ही वह भी चले जाएंगे क्या उन लोगों पर जनता भरोसा करेंगी इसी बात को लेकर हम उतर पड़े मैदान में कई सवाल लोगों से पूछे हमने पूछा कि भाई मिथलेश मिथिलेश के बारे में आपका क्या ख्याल है।

जनता से सवाल करते ही वह आग बबूला होते हुए कहने लगे कि हमने तीन बार मिथलेश को बोल दिए हैं और मिथिलेश तीन बार यहां से जीत चुका है और करोड़ों की संपत्ति बना चुका है लेकिन उसने जनता के लिए कुछ खास नहीं किया अब क्या करेगा अब भाजपा में शामिल हुआ है उसमें भी वही करेगा जो पहले करता आया है इतना ही नहीं एक टीवी चैनल ने तो स्टिंग ऑपरेशन करके मिथिलेश को तो सरेआम नंगा कर दिया की वह छोटी मोटी रकम नहीं लेता वह तो 6 करोड से नीचे किसी से बात नहीं करता बात बीजेपी की कर रहे हैं तो बीजेपी का कहना है कि ना गुंडाराज ना भ्रष्टाचार अबकी बार मोदी सरकार लेकिन यह क्या जितने भी लोग दूसरी पार्टियों से निकल कर आ रहे हैं वह भी जांच के घेरे में हैं और भ्रष्ट नेताओं की लिस्ट में है फिर बीजेपी ने ऐसे लोगों को साथ ले लिया आखिर भाजपा जनता को क्या संदेश देना चाहती है क्या मिथिलेश कुमार शाहजहांपुर सीट से बीजेपी का बेड़ा पार करेगा या खुद की भांति पार्टी को भी गड्ढे में फेंक देगा जिस पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लगे हुए हैं केवल बात हम हम मिथिलेश कि नहीं कर रहे हम उन सब छोटे बड़े लोगों की बात कर रहे हैं जो भाग भागकर बीजेपी में शामिल हो रहे हैं जिन पर भ्रष्टाचार गुंडाराज जैसी उपाधियां भाजपा ने ही दी थी और अब वहीं भाजपा इन्हें शामिल कर खुद को भी उसी कैटेगरी में शामिल कर रही है जिस कैटागिरी में दूसरों को बताती थी और जब गठबंधन की सीट शाहजहांपुर कीबसपा के खाते में गई तो अमरचंद जोहर को गठबंधन प्रत्याशी बना दिया गया उसके मुकाबले बीजेपी ने अरुण सागर को टिकट देकर मैदान में उतारा है फिलहाल अब देखना यह होगा कि क्या इन दोनों में से कौन किस पर भारी पड़ेगा यह चुनाव के बाद ही पता चलेगा फिलहाल अभी तो सिर्फ अंदाजा ही लगा सकते हैं।

लेखक संदीप शर्मा जाने माने पत्रकार हैं

  Similar Posts

Share it
Top