तिरंगे के बाद अब नीली बत्ती की गरिमा तार तार

12 Aug 2019 7:45 PM GMT

तिरंगे के बाद अब नीली बत्ती की गरिमा तार तार

बरेली - गुज़रे साढे पांच साल के अर्से यानी 2014 में मोदी सरकार बनने के साथ ही देश की आन बान शान के प्रतीक तिरंगे का मान सम्मान पामाल किया जाना फैशन सा बन गया है। कहीं फिल्म एक्टरों के शवों पर तिरंगा डाला जाने लगा तो कहीं धार्मिक कार्यो में तिरंगे को सड़कों पर घसीटा जाने लगा।

देश प्रेमी और देशभक्ती का दावा करने वाले ही देश की शान तिरंगे की अहमियत को मिटअी में मिलाने लगे। देशभक्ती की ढींगे मारने वाली मोदी योगी सरकार इसपर कोई रोक लगाने की बजाये उल्टे ऐसे लोगों की तरफदारी में लगी नजर आ रही है।


तिरंगे के मान सम्मान को पैरों तले रौंदने वालों के हौसले इस कछर बुलन्द हो गये कि अब इन्होंने प्रशासनिक अफसरान की सरकारी गाड़ियों पर लगाई जाने वाली नीली बत्ती का खुलेआम दुर्पयोग करना शुरू कर दिया।

योगीराज की धींगामुश्ती के चलते जिम्मेदार अफसरान चुपचाप देखते रहने पर मजबूर हैं।

तस्वीरों में दिख रही कांवड़ियों की गाड़ी पर अवैध रूप से इस्तेमाल की जा हरी नीली बत्ती खुलेआम बरेली शहर में घूमती हुई गोला की तरफ चली गई।

जी हां, हम उसी नीली बत्ती की बात कर रहे हैं जिसे लगाकर चलने की हैसियत बड़े से बड़े मंत्री तक की नहीं।

सवाल यह पैदा होता है कि अवैध रूप से नीली बत्ती लगी कांवड़ियों की इस गाड़ी को पुलिस या अफसरान ने क्या नहीं देखा ? वह भी आज के दिन जब कांवड़ का चैथा सोमवार होने के साथ ही बकराईद का त्योहार है। दो अलग अलग समुदायों के बड़े तयोहारों के चलते बड़े से बड़े अफसरान आज दिन भर सड़क पर ही दौड़ लगाते रहे।

  Similar Posts

Share it
Top