Top

कई घण्टे बॉर्डर पर सुखाये गये प्रवासी मज़दूर

1 Jun 2020 9:30 AM GMT

कहावत है कि *भेड़ जहां भी जायेगी, वहीं मुढेगी जरूर*

ये कहावत आजकल प्रवासी मज़दूरो पर फिट बैठ रही है,

ये बेचारे पूरी तरह से गुलामी की ज़ंजीरों में जकड़ दिये गये हैं,

कहीं भूखों तड़पाये जा रहे हैं, तो कहीं मन चाहे तरह से लठियाये जा रहे हैं, कहीं बेमौत मारे जा रहे हैं, तो कहीं हज़ारों मील पैदल घसिट रहे हैं,

इन गरीबों के शोषण का ताज़ा मामला आज बरेली नैनीताल रोड पर उत्तराखण्ड बॉर्डर पर सामने आया,

जहां उत्तराखण्ड के चम्पावत से उत्तराखण्ड रोडवेज की चार बसें यूपी के 164 प्रवासी मजदूरो को लेकर यूपी के बहेड़ी में छोड़ने आई थीं,

लेकिन यू पी के बरेली के बहेड़ी पुलिस ने सरकार की गाइड लाइन को ठेंगा दिखाते हुए बॉर्डर पर बसों को रोक दिया ।

और दो महीने से ज़्यादा अर्से तक लॉकडाउन की मार के मारे प्रवासी मज़दूरों और बस स्टाफ को कई घंटे यू पी में घुसने के लिए इंतेज़ार करना पड़ा ।

मामला आला अफसरान के सामने पहुंचने के बाद बसों को बहेड़ी के डिग्री कॉलेज में बने ट्रांज़िट कैम्प में भेजा गया

  Similar Posts

Share it
Top