बालश्रम और टैक्स चोरी उत्तराखण्ड की पहचान बन चुकी है

2017-09-07 13:30:10.0

उत्तराखण्ड में जिधर देखो ऊधर छोटे बच्चे मजदूरी करते मिलेगे, मुहल्ले की दुकाने हो या शोरूम या कोई खाने का होटल। हम आपको दिखाते हैं सबसे पहले हरिद्वार से लगे ज्वालापुर की तस्वीर। यह देखिये छोटे बच्चे से खुलेआम सड़क पर सफाई कराई जा रही है, ऐसी नही है कि यह नजारा सिर्फ हमने ही देखा बल्कि यह तो हर रोज यहा से गुजरने वाले जिम्मेदार अफसरान देखते है।
अब यह देखिये ये है पीराने कलियर के एक गेस्ट हाउस का नजारा तीन मंजिला गेस्ट हाउस में इस किशोरी से सफाई का काम कराया जाता है सिर्फ गैलिरी ही नही बल्कि मुसाफिरों के ठहरने वाले कमरों की सफाई भी इसी किशोरी से कराई जाती है। ऐसे में किसी भी अपराधिक हरकत हुई तो उसका जिम्मेदार कौन होगा।
पीराने कलियर के गेस्ट हाउस खुलेआम टैक्स चोरी भी करते है यानी ये ठहरने वालों को बिल नही देते बस केवल नगद पैसे लिए और हजम कर लिये ना कोई सेवाकर ना आयकर। इन हालातों से थाना प्रभारी से लेकर मुख्यमंत्री तक सब वाकिफ है लेकिन धंधा बादस्तूर जारी है।

  Similar Posts

Share it
Top