Top

बदहाली पर आंसू बहाता नूरपुर का सिविल अस्पताल

13 Jan 2020 6:30 PM GMT

देश भर मे सरकारी व्यवस्थायें पूरी तरह से खाओ खिलाओ फार्मूले की भेंट चढ़कर दम तोड़ चुका है

आज हम आपको रूबरू करा रहे हैं हिमांचल के नूरपूर के सिविल अस्पताल से

सरकार की हीलाहवाली के चलते नूरपुर का सिविल अस्पताल अपनी बदहाली पर आंसू बहा रहा है,

एक तरफ जहां अस्पताल में पानी, मशीनरी, दवाई, बैडों की भरपूर व्यवस्था नहीं है तो वहीं दूसरी तरफ अस्पताल में अच्छे डाक्टरों के साथ ही पैरामेडीकल स्टॉफ की कमी से लोगो को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

नूरपुर के सिविल अस्पताल में चुबाड़ी,ज्वाली,फतेहपुर व इंदौरा इलाकों के मरीज अपना इलाज करवाने आते हैं।

लेकिन डॉक्टरों की कमी से मरीजों को काफी दिक्कतें आ रही है।

दरअसल डॉक्टरों को उनकी मनचाही जगह तबादले कर दिये जाने से अस्पताल में डॉक्टर की कमी चल रही है।

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री विपिन सिंह परमार से बात की तो उन्होंने सारा ठीकरा पिछली सरकार के सिर पर फोड़ दिया,

स्वास्थ मंत्री ने अपनी पीठ थपथपाते हुए बड़ी ही चौकाने वाली बात कही कि,

हिमांचल मे इस वक्त 6 मेडीकल कालेज और 35 सौ अस्पताल हैं, ये सारे व्यवस्थाये दो साल में खड़ी की गई है

बात साफ है कि अस्पतालों में डाक्टरों की पूर्ती करने में कम से कम पांच साल लगेगें

  Similar Posts

Share it
Top