Top

लॉकडाउस के मरे ग़रीबों के निवालों पर भी डाका

5 April 2020 12:30 PM GMT

बिना ही किसी तैयारी के थोपे गये लाकडाउन ग़रीबों को दाने दाने को तरसा दिया है,

काम धंधे मेहनत मज़दूरी सब ठप पड़ी है,

घरों से बाहर कदम रखते ही पुलिस लठियाती है,

मंचों पर सरकारें जुमलो की बरसात कर रही है कि कोई भी व्यक्ति भूखा नहीं सोएगा,

सोने पर सुहागा कोटेदार ग़रीबों के निवाले भी डकाने में लगे हैं,

सरकारी जुमले सब सुन रहे है, पालतू मीडिया जुमलों को बढ़ा चढ़ाकर देश को गुमराह करने मे लगी है,

जमीनी हकीकत जुमलों के ठीक उलट है, बिल्कुल अलग है,

सैकड़ो ऐसे परिवार हैं जिन लोगों को एक वक्त की रोटी भी नसीब नहीं हो रही,

एक बार हम बात कर रहे है शाहजहांपुर जिले की,

इस जिले में कोटेदार खुलकर गरीबों के निवालों पर डाके डाल रहे हैं,

लेकिन ज़िम्मेदार अफसरान शिकायत मिलने का इन्तेज़ार कर रहे हैं, सप्लाई इंस्पैक्टर का कहना है कि अगर कोई शिकायत करता है तब देखेंगे

लोगों का कहना है कि उन्हें राशन नहीं मिल पाता जबकि उनका पात्रता सूची में नाम होने के बाद भी उन्हें कोटेदार भगा देता है

ऐसी ही शिकायतों के बाद एवीएन के रियलिटी चेक प्रोग्राम के तहत हमारे स्टेट ब्यूरो चीफ संदीप शर्मा अपनी टीम के साथ पहुंचे बंडा के गांव नटियूरा,

यहां पर लोगों का आरोप है कि कोटेदार अपनी मनमानी करता है और 5 किलो प्रति यूनिट की जगह वह 4 किलो ही राशन दे रहा है

इसके अलावा लोगों को मशीन खराब होने का बहाना बनाकर वहां से टरका देता है

हमारे सहयोगी ने जब मौके से ही सप्लाई इंस्पेक्टर आलोक कुमार से हमारे संवाददाता ने बात की तो उसने बताया कि उसके पास इस तरह की कोई शिकायत नहीं है अगर कोई शिकायत होती है तो वह कार्रवाई करेंगे,

आखिर आलोक कुमार जी ऐसा क्यों कह रहे हैं क्या आलोक कुमार जी यह सब पहले से जानते हैं या फिर यूं ही हर बार रटा रटाया जवाब दे दिया जाता है

आईये आपको दिखाते हैं यह खास रिपोर्ट हमारे स्टेट ब्यूरो चीफ संदीप शर्मा के साथ

  Similar Posts

Share it
Top