Top

तो ऐसे "मेरा भारत बदल रहा है" ?

1 Jun 2020 11:15 AM GMT

गुलाम जनता को उसके गुलाम होने का एहसास कराने की होड़ में प्रधान मंत्री ने अपना ही कद घटा लिया,

हालत यहां तक पहुंच गई कि उत्तराखण्ड पुलिस लॉक ऑन के लिए जारी केन्द्र सरकार की गाईड लाईन को ही ठोकर मारती नज़र आ रही है

उत्तराखण्ड पुलिस की हठधर्मी का ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश उत्तराखण्ड बॉर्डर यानी बरेली नैनीताल रोड पर पुलभटटा पर देखने को मिला,

जहां केन्द्र सरकार की गाईड लाईन को ठोकर मारते हुए उत्तराखण्ड पुलिस ने उत्तराखण्ड के रूद्रपुर के रहने वाले एक ग़रीब परिवार को राज्य सीमा में नहीं घुसने दिया,

दरअसल उत्तराखंड के रुद्रपुर की रहने वाली इस गरीब महिला का मायका यू पी के बदायूं के दातागंज में है ।

लॉक डाउन से पहले महिला के पिता का देहांत हो गया था,

महिला अपने बिकलांग पति व दो बच्चों को लेकर पिता के अन्तिम दर्शन करने अपने मायके दातागंज आ गयी थी ।

24 मार्च को अचानक ही देश भर में लॉक डाउन मढ़ दिया गया था,

रास्ते, सवारी बन्द होने के चलते ये महिला अपने मायके में रहने लगी, और पल पल लॉकडाउन खुलने का इन्तेजार करने लगी,

कल जब महिला को पता चला कि एक जून से बिना रोकटोक किसी भी राज्य में कोई भी जा सकता है,

तो महिला अपने बिकलांग पति और दोनो मासूम बच्चों को लेकर अपने मायके से रोडवेज़ बस में सवार होकर बहेड़ी तक आ गयी थी ।

बहेड़ी से आठ किलोमीटर दूरी पर यू पी उत्तराखंड बॉर्डर तक महिला अपने परिवार को लेकर पैदल ही पहुच गयी ।

लेकिन जब से ये परिवार उत्तराखंड के सीमा में पहुचा तो उत्तराखंड पुलिस ने परमिशन दिखाने को कहा तो ये महिला परमिशन नही दिखा सकी तो पुलिस ने उसे वापस यू पी में भेज दिया ।

मीडिया ने जब वहां तैनात पुलिस से इस बाबत में बात की तो उन्होंने बताया कि हमारे पास अभी राज्य सरकार से लिखित आदेश नही आया है,

और जब लिखित आदेश आएगा तो हम उसका पूरा पालन करेंगे।

  Similar Posts

Share it
Top