Top

मीडिया बताये कि यह बच्ची जमाती है या पाकिस्तानी ?

21 April 2020 5:46 PM GMT

कोरोना को लेकर कुछ पालतू चैनलों अखबारों के ज़रिये सरकार जितनी हू हल्ला मचा रही है, उसका दस फीसदी भी कर नहीं रही,

कोरोना को जमात या फिर सीधे शब्दों में कहें तो मुसलमानों से जोड़ने के लिए कुछ चैनलों को पाला जा रहा है,

हम जो रूह कंपा देने वाली तस्वीर आपको दिखाने वाले हैं, ये मामला अगर किसी मुसलमान का होता तब पालतू चैनल 24 घण्टे नंगा नाच करते नज़र आते,

लेकिन यहां सरकार के इन्तेज़ामों को बेनकाब करने वाली बच्ची गुप्ता परिवार से है इसलिए पालतू एंकरों को सांप सूंघा हुआ है,

हालांकि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के चाबुक को देखकर कुछ मीडियाई नागों के सुर बदल गये हैं लेकिन कुछेक अभी भी करतूत से बाज़ नहीं आ रहे हैं,

कोरोना के नाम पर कुछ पालतुओं ने जमात के खिलाफ जमकर झूठ फैलाकर देश में मुसलमानों का कत्लेआम कराने की पूरी साज़िशें रची जा रही हैं,

जिसका असर दिल्ली समेत कई जगह दिखने लगा,

हम जो तस्वीर आपके सामने रख रहे हैं उसमें एक छोटी बच्ची अपना दर्द बता रही है,

यही दर्द जब जबरदस्ती अस्पतालों में रखे जा रहे जमातियों ने बताया तब उनके दर्द की आवाज़ को वहीं दबाकर उनपर उल्टे सीधे बेबुनियाद इल्ज़ाम लगाये गये,

जमातियों के खिलाफ चैनलों पर जमकर नाच किये गये,

आज यानी बीस अप्रैल की सुबह भी काफी देर तक नाच किया गया,

आईये दिल्ली की रहने वाली बच्ची की सरकारी इन्तेज़ामों की कलई खोलती दर्द भरी कर्राहट सुनिये,

दरअसल यह वीडियो बीस अप्रैल की शाम से सोशल मीडिया पर तेज़ी से दौड़ रही है

पालतू मीडिया की साजिशों के बीच सरकारी इन्तेज़ाम की पोल खोलती बच्ची की इस करूणा को सुनकर यह तय कर पाना मुश्किल हो गया है इस बच्ची को जमाती होने का एलान किया जाए,

या इसे पाकिस्तानी डिक्लियर किया जाए,

या फिर पालतू मीडिया के बनाये उर्दू नाम वाले किसी संगठन का सदस्य बताया जाये

चलिये यह फैसला भी पालतू मीडिया और कुछ देशद्रोहियों पर ही छोड़ते हैं बच्ची को किस संगठन का सदस्य घोषित किया जाये

  Similar Posts

Share it
Top