महिला कुश्ती का रियल शो

2018-07-11 23:45:27.0

अभी तक आपने कुश्ती के खिताबी दंगल देखे होंगे, लेकिन आज हम आपको दो महिलाओं के रियली दंगल का लाईव नज़ारा दिखा रहे है।

यह दंगल बरेली के बड़े बाजार की आर्य समाज गली में देखा गया।

दो महिलाओ ने एक दूसरे को पटक पटक कर जमकर मारा। कभी एक महिला दूसरी पर भारी पड़े तो कभी दूसरे। दोनों महिलाओं में जमकर मारपीट हुई और भीड़ तमाशा देखती रही। जिस वक्त बीच बाजार दो महिलाओं में दंगल हो रहा था उसी वक्त पास की दुकान में लगे सीसीटीवी में दो महिलाओं के दंगल का नजारा कैद हो गया।

किसी तरह से लोगों ने दोनों महिलाओं के बीच बीचबचाव किया।

पुलिस ने इस मामले में एक महिला की शिकायत पर दूसरी महिला और उसके पति के खिलाफ एनसीआर दर्ज कर ली है। झगड़ा करने वाली दोनों दुकानदार है किसी ग्राहक को लेकर झगड़ा होने की बात सामने आ रही है

कुतुबखाना में आर्य समाज गली में लाडो और विनीता की कॉस्मेटिक की दुकान है। बताया जा रहा है कि ग्राहक को लेकर दोनों महिला दुकानदार की आपस मे बहस हो गई और देखते ही देखते बहस मारपीट में बदल गई। बीच बाजार में दोनों महिलाओं के बीच जमकर मारपीट से लोगों की भीड़ जमा हो गई और लोगों ने इस घटना का वीडियो भी बना लिया। इस मामले में एक महिला ने कोतवाली में शिकायत भी दर्ज कराई है।


बच्चे को खा गये कुत्ते

सीतापुर के बाद अब बरेली में कुत्तों का आतंक बढ़ता ही जा रहा है। सीबीगंज में आदमख़ोर कुत्तों ने एक दस साल के बालक पर हमला बोल दिया और उसे नोच नोच कर खा गए। आस पास के लोगों की नजर जब बालक पर पड़ी तो लोगों ने किसी तरह से बालक को कुत्तों के चंगुल से आजाद कराया और उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया जहाँ पर डाक्टरों ने बालक को मृत घोषित कर दिया।

रोती बिलखती ये उसी बच्चे की माँ है जिसे आदमख़ोर कुत्तों ने मार डाला। मीरगंज के रहने वाले ओमप्रकाश की पत्नी गुड्डी सीबीगंज की डूडा कॉलोनी में काम करने आती है। महिला के साथ उसका दस साल का बेटा रितिक भी आता था। मंगलवार को महिला घरों में काम करने चली गई जबकि उसका बेटा जंगल में बने मंदिर में प्रसाद लेने चला गया। मंदिर से लौटते वक्त कुत्तों के झुण्ड ने रितिक पर हमला कर दिया और उसे नोच नोच कर खाने लगे और उसे खींच कर खेत में ले जाने लगे उधर से गुजर रहे लोगों की नजर जब कुत्तों पर पड़ी तो वो लड़के को बचाने दौड़ पड़े और किसी तरह से कुत्तों के झुण्ड से रितिक को बचाया। लेकिन तब तक कुत्ते रितिक के पेट, पैर और चेहरे का काफी मांस नोच चुके थे। लोग रितिक को इलाज के लिए अस्पताल ले गए जहाँ पर उसे मृत घोषित कर दिया गया।

आवारा कुत्तों के हमले का ये कोई पहला मामला नहीं बल्कि इसके पहले भी बच्चे कुत्तों के हमले में अपनी जान गँवा चुके है। बरेली की बहेड़ी तहसील में कुत्तों के हमले में सबसे ज्यादा मौत हुई है। बच्चों की मौत के बाद प्रशासन बड़े बड़े दावे करता है और अभियान भी चलता है लेकिन कुछ दिनों बाद प्रशासन हाथ पर हाथ रख कर बैठ जाता है।

  Similar Posts

Share it
Top