विद्यार्थी मेहनत कर पाएं मंजिल- कलेक्टर

2017-02-03 11:30:08.0

विद्यार्थी मेहनत कर पाएं मंजिल- कलेक्टर

अशोकनगर- (हेमन्त यादव) विद्यार्थी जीवन में काफी कठिनाइयां आती है। आने वाली हर कठिनाई एवं परेशानियों से उभरकर मेहनत करके मंजिल पाने का लक्ष्य पूरा करें। यह बात कलेक्टर बीएस जामोद ने गुरूवार की रात्रि में शासकीय पोस्ट मेट्रिक बालक छात्रावास बरखेड़ी विकासखण्ड अषोकनगर के आकस्मिक निरीक्षण के दौरान छात्रावास में रह रहे विद्यार्थियों से चर्चा करते हुए कही। कलेक्टर श्री जामोद ने छात्रावास पहुॅचकर छात्रों के दोनों ब्लाकों के कमरों का निरीक्षण किया। साथ ही साफ-सफाई व्यवस्था को भी देखा। उन्होंने छात्रावास में पेयजल व्यवस्था तथा षौचालयों एवं स्नानागार का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान विद्यार्थियों ने बताया कि 50 सीटर छात्रावास में पलंग की उपलब्धता कम होने से एक ही पलंग पर दो छात्रों को सोना पड़ता है। साथ ही कुर्सी- टेबिल नहीं है। छत से पानी टपकता है। खेल सामग्री नहीं है। छात्रावास में मैथ्स एवं जनरल नॉलेज की कोचिंग व्यवस्था कराई जाए। षिष्यवृत्ति की 900 रूपए प्रति छात्र के मान से मिलने वाली राषि से मैस की व्यवस्था की जाती है। इस राषि को बढ़वाई जाए। छात्रों ने बताया कि छात्रावास में एक ही दैनिक समाचार पत्र आता है। वाचनालय की व्यवस्था कराई जाए। कलेक्टर द्वारा छात्रावास निरीक्षण तथा छात्रों से ली गई जानकारी के पश्‍चात उपस्थित 23 छात्रों से रूबरू होते हुए उन्होंने कहा कि छात्रावास की प्रत्येक समस्या का निराकरण किया जाएगा तथा छात्रों को मिलने वाली सभी सुविधायें मुहैया कराई जाएंगी। उन्होंने मौके पर उपस्थित जिला संयोजक अदिम जाति कल्याण बी.एल. परमार को निर्देशित किया कि छात्रावास में पर्याप्त संख्या में पलंग, गद्दे-रजाई, मच्छरदानी की व्यवस्था कराई जाए। छात्रावास की आवश्‍यक मरम्मत, पुताई तथा विद्युत फिटिंग कराएं। उन्होंने छात्रावास में वाचनालय की स्थापना कर सभी आवश्‍यक पुस्तकें तथा हिन्दी एवं इंग्लिष दैनिक समाचार पत्र-पत्रिकाएं मंगवाए जाने के निर्देश दिए। खेल सामग्री हेतु बॉलीबॉल, फुटबाल तथा नेट की व्यवस्था की जाए। आई.ए.एस. की कोचिंग की होगी व्यवस्था छात्रावास में रहने वाले धर्मेन्द्र अहिरवार ने बताया कि वह आई.ए.एस. ऑफिसर बनना चाहता है। इसकी कोचिंग दिल्ली में होगी इसके लिए आर्थिक मदद कराई जाए। कलेक्टर ने छात्र की बात सुनकर आश्‍वस्त किया कि दिल्ली में कोचिंग की व्यवस्था षासन द्वारा नि:शुल्क कराई जाती है। छात्रों की प्रतिभा को निखारने के लिए शासन हर संभव मदद के लिए तैयार है। उन्होंने दिल्ली में दृष्टि कोचिंग में कोचिंग व्यवस्था कराए जाने की बात कही। साथ ही उन्होंने छात्रों से कहा कि जो भी छात्र कोचिंग सुविधा लेना चाहते है वे अपना आवेदन जिला संयोजक आदिम जाति विभाग में दे सकते है। अपने बीच पाकर खिल उठे चेहरे बालक छात्रावास में कलेक्टर को अपने बीच पाकर यहां मौजूद छात्रों की खुशी का ठिकाना न रहा। छात्रों ने कलेक्टर के साथ दो घण्टे बिताए तथा अपनी बात रखी। कलेक्टर ने भी अपने छात्र जीवन के स्मरण छात्रों को सुनाएं। उन्होंने कहा कि छात्र अपने जीवन की उड़ान को ऊचा रखें जिससे वे सुनहरे सपने को पूरा कर सकें।

  Similar Posts

Share it
Top