इ0 यूपी ग्रामीण बैंक का शाखा प्रवन्धक फसा दलालों के चंगुल में

2018-06-07 04:13:23.0

इ0 यूपी ग्रामीण बैंक का शाखा प्रवन्धक फसा दलालों के चंगुल में

( हिमांशु कुमार मिश्र )

सीतापुर राजापुर कला(डेलिया)इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक का शाखा प्रवन्धक फसा दलालों के चंगुल में।अंदर-बाहर दलालों के जमाउडा।विना सुबिधा शुल्क,दलालों के नही होते कार्य।खाता धारकों में आक्रोश व्याप्त। रेउसा(सीतापुर)रेउसा बिकास खण्ड के ग्राम राजापुर कला शाखा(डेलिया)इलाहाबाद यूपी ग्रामीण बैंक का शाखा प्रवन्धक पूर्ण रूप से दलालों के चंगुल में फंसा हुआ है।बैंक में अंदर,बाहर से लेकर रोड तक लोगो की भीड़ लगी रहती है।बैंक के अंदर दलालों के जमाउडा लगा रहता है।सूत्रों की माने तो वैंक के अंदर दलाल कर्मचारियों की जगह कम्पिवटर से लेकर अंदर के कार्य अधिकारियों की कुर्शियों पर बैठकर करते है।बैंक के अंदर-बाहर इस कड़ाके की भीषण गर्मी में महिलाएं अपने बच्चों को गोदी में लेकर सुबह से साम तक खड़ी रहती है।कोई उनकी सुनने वाला नही है।चहलारी से हसीमा, बसंतापुर से मुस्ताक,रामीपुर से लालाराम,सालपुर से श्यामा देवी,श्याम कली,मदन अवस्थी।आदि लोगो का कहना है।दस-दस दिन दौड़ना पड़ता है।बैंक में चक्कर लगाना पड़ता है।अगर अपने खाते से भी पैसे निकालने के लिए पैसे देने पड़ते है।बैंक का कोई भी काम वैगैर दलाल के नही होते है।जो सुबिधा सुल्क नही दे पाता है।उससे अनेको प्रकार के बहाने बताकर लौटा दिया जाता है।जो व्यक्ति दलाल से मिला उसका काम तत्काल हो जाता है।खाता खुलवाने में भी फार्म के लिए पहले सुबिधा शुल्क देना पड़ता है।कोई भी व्यक्ति खाता धारक शाखा प्रवन्धक से अपनी सीधे बात नही कह सकता।इलाहाबाद यूपी बैंक व जुम्मेदार कर्मचारी दलालों के चंगुल में मकड़ी के जाल की तरह फंस चुके है।गोपनीय तरीके से जांच का विषय।कलाई अपने आप खुल जाएगी।स्थानीय लोगो का कहना यंहा तक है।कि शाखा प्रबंधक बहुत ही दबंग राजनैतिक ऊंची पहुंच रखने वाला है।शाखा प्रबंधक की दबंगई इस कदर हावी है।कि कोई भी खाता धारक अपना मुंह खोलने को तैयार नही है।पास बुके,विड्राल फेंक दिए जाते।लोगो मे आक्रोश व्याप्त है।बैंक के बाहर लगी बैठी भीड़ से ही अंदाजा लगाया जा सकता है।कितने बैंक के कर्मचारी, ज़िम्मेदार अधिकारी कितना अपनी जुम्मेदारियो के प्रति संजीदा है।

  Similar Posts

Share it
Top