एक माह छोड़कर दूसरे माह देता राशन सामग्री

2017-01-21 08:30:14.0

एक माह छोड़कर दूसरे माह देता राशन सामग्री

खाद्यान्न मांगने पर कहता है मार्च से मिलेगा

उरई-जालौन (राहुल गुप्ता) ग्राम लिटावली की गृहणियों ने आज घर की दहलीज लांघ कलेक्ट्रेट में पहुंची जहां उन्होंने जिलाधिकारी को संबोधित दिये गये प्रार्थना पत्र में गांव के राशन कोटेदार पर खाद्यान्न वितरण न करने का आरोप लगाते हुये कार्यवाही की मांग की। इस दौरान आधा सैकड़ा महिलायें उपस्थित रहीं।
माधौगढ़ तहसील क्षेत्र के ग्राम लिटावली के राशन कार्ड विक्रेता लंबे समय से गांव की पात्र गृहस्थी महिलाओं को खाद्यान्न वितरण न करने सहित ज्यादातर राशन सामग्री का खुले बाजार में विक्रय कर दिये जाने से पात्र ग्रामीणों को खाद्यान्न नहीं मिल पा रहा है। एक ओर जहां कोटेदार 44 रुपये प्रति लीटर की दर से बाजार में बेंच रहा तो वहीं जो ग्रामीण खाद्यान्न लेने जाते हैं उनसे कहता है कि उन्हें मार्च महीने से खाद्यान्न मिलेगा। ऐसी स्थिति में ग्रामीणां का आये दिन कोटेदार से लड़ाई झगड़ा होता है। जब ग्रामीण कोटेदार की शिकायत करने की बात कहते हैं तो वह धमकी देता है कि चाहे जहां शिकायत करो विभाग में हर पटल पर कमीशन दिया जाता है। इसलिये हम अपनी तरीके से ही राशन खाद्यान्न का वितरण करेंगे। ग्रामीण महिलाओं ने यह भी बताया कि उक्त आशय की शिकायत वह अनेकों बार उप जिलाधिकारी माधौगढ़ से कर चुके हैं लेकिन आज तक कोटेदार के विरुद्ध कोई कार्यवाही अमल में नहीं लायी गयी। गृहणियों ने गांव के भ्रष्ट कोटेदार के विरुद्ध विभागीय कार्यवाही किये जाने की मांग करते हुये पात्र लोगों को नियमित खाद्यान्न वितरण की मांग उठायी। इस दौरान गोले पाल, दिलीप, उमेश सिंह, रामाधार, महावीर, विनय प्रताप सिंह, जयदेव सिंह, पिंकू सिंह, रमेशचंद्र, उदयवीर सिंह, आरबी सिंह, शिशुपाल सिंह, ओमप्रकाश सिंह, कृष्णपाल सिंह, अजय पाल सिंह, रामसिंह, गोविंद सिंह, रामलखन सिंह, रामकुमार सिंह, बृजभूषण दोहरे, रामप्रसाद दोहरे, रामसेवक दोहरे, पवन, कल्लू, प्रदीप चैधरी, कल्लू सिंह, देवेंद्र सिंह, महरूप सिंह, किशुन सिंह, भानुप्रताप सिंह, सोनू द्विवेदी, रामबाबू द्विवेदी, जगजीवन दोहरे, इंदल सिंह, सुल्तान, बाबूराम, रामपाल वर्मा, सीताराम वर्मा, सुनीता पाल, प्रकाश सिंह, सुरेश कुशवाहा, बब्लू कुशवाहा, विनोद कुशवाहा, कालीचरन दोहरे, सियारानी, डालचंद्र कुशवाहा, कालीचरण दोहरे, सुनीता, अनीता, राधा, जगरानी, सुखरानी, सुखदई, गीता, इंदू, अर्चना, रेखा, धनमंती सहित अनेकों ग्रामीण व महिलायें उपस्थित थीं।

  Similar Posts

Share it
Top