खादी और खाकी के जूते में कानून और आचार संहिता

2017-01-21 14:15:14.0

बरेली/रामपुर - यह सच्चाई तो सभी जानते है कि भारत में कानून खददरधारियों और वर्दीधारियों की ठोर में रहता है तो चुनाव आचार संहिता की हैसियत ही क्या है। आई इसका एक जीता जागता सबूत आपको दिखाते है। उत्तर प्रदेश के रामपुर व बरेली में। रामपुर में नगर पालिका जो निर्माण कार्य करा रही है उनपर आज भी समाजवादी पार्टी का झण्डे वाले रंग का प्रयोग किया जा रहा है। देखिये कदम कदम पर लगाये गये ये पत्थर।
दूसरी तरफ बरेली में जहां आचार संहिता के बहाने आम गुलाम लोगों को चोर उचक्का मानकर तलाशियां ली जा रही है वहीं समाजवादी पार्टी की एमएलसी प्रत्याशी रही मैडम की कार पर पार्टी बैनर ज्यों का त्यों लगा है ऐसा भी नहीं कि यह गाड़ी दूरदराज गांव में रहती हो बल्कि आज ही यह एसएसपी कार्यालय के ठीक सामने दिन भर खड़ी रही।

अब खादी के सामने घुटने टेके कानून का दीदार भी करिये। देखिये अगर वाहनों की यही शक्ल गुलाम जनता में से किसी के वाहन की होती तो उसका क्या अंजाम होता यह सभी जानते है। लेकिन यहां मामला है खाकी का तो किसकी जुर्रत कि कानून को याद करे।

  Similar Posts

Share it
Top