रमन की दो टूक, सरकार तो बेचकर रहेगी शराब

2017-03-22 14:17:15.0

रमन की दो टूक, सरकार तो बेचकर रहेगी शराब

रायपुर (बृजनरायन साहू) हठधर्मी और तानाशाही बीजेपी सरकारों की पहचान बन चुकी है, बीजेपी सरकारों को देश या देश की गुलाम जनता के हितों से किसी भी तरह का कोई सरोकार नहीं रहता। मामला चाहे नोटबन्दी का हो या ईवीएम घोटाले का या फिर छत्तीसगढ़ में सरकार के हाथों शराब बेचे जाने का। हर जगह हठधर्मी ही हठधर्मी ही नजर आ रही है। इसी तरह छत्तीसगढ़ की रमन सरकार अपने फैसले से टस से मस नहीं हो रही है। यही अन्तिम सत्य है, अब इस फैसले में बदलाव संभव नहीं है। ठेकेदारों की मनमानी रोकने के लिए ये फैसला जरूरी है। कैबिनेट बैठक में जब मुख्यमंत्री रमन सिंह ने इस बात को दमदार तरीके से कहा, तब जाकर बाकी सदस्यों ने न चाहते हुए भी सरकार द्वारा शराब बेचे जाने के फैसले पर मुहर लगाए।

खुद शराब बिक्री करने की तैयारी कर चुकी रमन सरकार पर लगातार विपक्ष के हमले हो रहे हैं। विधानसभा में हंगामे से लेकर सड़कों तक पर बड़े प्रदर्शन हुए, जो अब भी बदस्तूर जारी हैं, पर सरकार है कि अपने फैसले से टस से मस नहीं होने वाली है। यह बात मुख्यमंत्री रमन सिंह के ताजा बयान से स्पष्ट हो रही है।

छत्तीसगढ़ में सरकारी नियंत्रण में शराब बेचने के फैसले को वापस लेने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ये फैसला अब रिवर्स नहीं हो सकता, क्योंकि यही अब अंतिम सत्य है। सरकार अपने फैसले वापस नहीं लेती है।

हालांकि शराब बंदी का विरोध विपक्ष ने तो किया ही, पर बीजेपी के भी कई नेता सरकार द्वारा शराब बिक्री किये जाने के फैसले का विरोध कर चुके हैं। वहीं हाल में हुई कैबिनेट की बैठक में मुख्यमंत्री से कई मंत्रियों ने भी अपनी असहमति व्यक्त की थी, पर रमन सिंह अड़े रहे। उन्होंने इस नीति पर मुहर लगाने से पहले बैठक में कई मंत्रियों के सख्त विरोध के सवाल पर कहा कि किसी बात पर थोड़ी बहुत बातचीत तो होती ही है, लेकिन कोई मनमुटाव नहीं है। सरकार सभी कोचियाबंदी और ठेकेदारों की मनमानी रोकने के पक्ष में है। जो इसके बिना संभव नहीं है, तब जाकर सभी ने ये माना है कि सरकार का यह फैसला सही है।
खबरों से लगातार अपडेट रहने के लिए एवीएन की एप्प इंस्टाल करिये - https://play.google.com/store/apps/details?id=com.ally.avnn

  Similar Posts

Share it
Top