मण्डी पर व्यापारियों का कब्ज़ा, गोलमाल ही गोलमाल

16 April 2019 9:06 AM GMT

मण्डी पर व्यापारियों का कब्ज़ा, गोलमाल ही गोलमाल

(संदीप शर्मा)

शाहजहांपुर/बंडा - यूपी की योगी सरकार किसानों के गेहूं खरीद को लेकर कितनी भी संजीदगी बरतती हो, लेकिन सरकार के ही कुछ नुमाइंदे गेहूं खरीद के नाम पर किसानों का शोषण कर रहे हैं। आढ़त स्वामियों और सरकारी करिदों की मिली भगत से आढ़त पर खरीदा जा रहा गेहूं क्रय केंद्र का दिखाया जा रहा है। यह खेल बंडा उपमण्डी और पुवायां मैं ही नहीं जिले की कई मंडियों में चल रहा है। इससे किसानों को उनकी फसल का वाजिब मूल्य नहीं मिल पा रहा है। इस खेल में योगी सरकार की सरकारी मशीनरी भी शामिल हैं।

केंद्र सरकार ने इस बार गेहूं का मूल्य 1840 रुपये कुंतल तय किया है। सभी सहकारी क्रय केंद्र संचालकों को इस बात की स्पष्ट हिदायत दी गई है कि वह सेंटर पर आने वाले किसानों को शत प्रतिशत गेहूं खरीदें। गेहूं की कालाबाजारी रोकने को जमीन के हिसाब से खरीद तय की गई है। किसानों का गेहूं सेंटर पर आने के बाद उसकी बकायदा तौल होने के बाद किसान बही में खरीद दर्ज की जानी चाहिए। किसानों को गेहूं का भुगतान भी उनके बैंक खातों में पहुंचता है। पारदर्शिता के साथ गेहूं खरीद की प्रक्रिया होने के बाद भी सेंटर संचालकों ने इसमें नया खेल शुरू किया है। वह सेंटर पर आने वाले किसानों का सीधे तौर पर गेहूं नहीं खरीदते, या तो सेंटर बंद करने का बहाना होता है तो कुछ सेंटर किसानों के आने के टाइम ताला डाल दिया जाता है। इससे मजबूरी में किसान आढ़त पर ही गेहूं बेचते हैं। ऐसे में आढ़त पर साठ किलोग्राम के पैकेट का प्रावधान है, जहां पचास किलो की ही पैकेट की जा रही है। ताकि वह गेहूं शाम ढलने के बाद संबंधित सेंटर पर खरीद दिखाकर सरकारी गोदामों में भेजा जा सके। आढ़त स्वामी 1600 से 1700 रुपये तक के रेट पर गेहूं खरीदकर सेंटर पर साठगांठ के चलते बेच देते हैं। सेंटर पर जाने के बाद सेंटर संचालक अपने किसानों के नाम वह गेहूं दर्ज कराकर गोदामों तक भेज देते हैं। कई दिनों से सेंटर खुलने के बाद भी किसानों के गेहूं की तौल न होने पर यह खेल उजागर हो रहा है। सबसे ज्यादा यह खेल बंडा मण्डी में चल रहा है। फिलहाल अधिकारी चुनाव में व्यस्त हैं इसलिए इस प्रकार का गोलमाल चल रहा है देखना यह होगा कि अब इस खबर के बाद क्या अधिकारी नींद से जागेंगे या फिर यूं ही किसानों का शोषण होता रहेगा

(शाहजहांपुर से संदीप शर्मा की रिपोर्ट)

  Similar Posts

Share it
Top