तैयार होने के साथ ही उखड़ना हो गयी शुरू सड़क

2017-01-17 10:00:03.0

तैयार होने के साथ ही उखड़ना हो गयी शुरू सड़क

लाखों रुपये से निर्मित करायी जा रही सड़क में मानक ताक पर
उरई-जालौन (राहुल गुप्ता) चुनावी सीजन में जनपद में एक के बाद एक करोड़ों रुपयों की लागत से निर्मित होने वाली सड़कों ंमें कार्यदायी संस्था विभागीय अधिकारियों से मिलीभगत कर किस कदर सड़कों के निर्माण में मानकों की धज्जियां उड़ाकर निर्माण कराने में जुटी हुयी इसका जीता जागता नमूना लाखों रुपये की लागत से प्रांतीय खंड द्वारा निर्मित करायी जा रही कोटरा-एट संपर्क मार्ग को देखकर लगाया जा सकता है। एक ओर जहां कार्यदायी संस्था सड़क निर्माण में जुटी हुयी है तो वहीं दूसरी ओर नवनिर्मित सड़क का उखड़ना भी शुरू हो गया है। क्षेत्रीय लोगों ने मानकों की धज्जियां उड़ाकर कराये जा रहे सड़क निर्माण पर रोक लगाये जाने की मांग की है।
गौरतलब हो कि चुनावी सीजन में प्रदेश शासन द्वारा जनपद की दर्जन भर से ज्यादा जर्जर हो चुकी सड़कों के निर्माण के लिये करोड़ों रुपये का बजट इस उम्मीद के साथ जारी किया था ताकि जनपदवासियों को एक स्थान से दूसरे तक जाने में तकलीफ न हो लेकिन जैसे ही करोड़ों रुपये का बजट विभागीय अधिकारियों को मिला तो उन्होंने अवैध तरीके से काली कमाई करने की मंशा से कार्यदायी संस्था से सांठगांठ कर सड़क निर्माण में मानकों को ताक पर रखकर औपचारिकताओं में कराना शुरू कर दिया। ऐसा ही हाल प्रांतीय खंड द्वारा लाखों रुपये से निर्मित करायी जा रही कोटरा से एट संपर्क मार्ग का है जिसे कार्यदायी संस्था पापड़ की तरह बेलकर आनन-फानन में पूरा कराने के प्रयासों में जुटी हुयी है। बताया जाता है कि प्रांतीय खंड के राकेश सिंह व श्यामनाथ की देखरेख में निर्मित सड़क में न तो समुचित मोटाई में गिट्टी डाली गयी ओर न ही डामर का पर्याप्त मात्रा में उपयोग किया जा रहा है। यही कारण है कि एक ओर कार्यदायी संस्था सड़क का निर्माण करा रही है तो वहीं दूसरी ओर सड़क उखड़नी भी शुरू हो गयी। ताज्जुब की बात तो यह है कि जब सड़क निर्माण के दौरान ही उखड़नी शुरू हो गयी तो इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि लाखों रुपये की लागत से निर्मित सड़क पर कितने दिनों तक राहगीर सुविधाजनक तरीके से आवागमन कर सकेंगे।
उरई- प्रांतीय खंड के कार्यवाही अधिशासी अभियंता शिवप्रकाश ओझा से जब कोटरा-एट संपर्क मार्ग निर्माण में मानकों की अनदेखी कार्यदायी संस्था द्वारा कर आनन-फानन में पापड़ की तरह बेलकर निर्मित करायी जा रही सड़क के बारे में जानकारी चाही तो एक्सईएन ओझा का कहना था कि चूंकि उन्होंने कुछ दिनों पहले ही प्रांतीय खंड के अधिशासी अभियंता का कार्यभार संभाला है इसलिये उन्हें विभाग द्वारा कहां-कहां सड़कों का निर्माण कराया जा रहा है इस बात की जानकारी नहीं है। फिर भी वह कोटरा-एट संपर्क मार्ग का घटिया निर्माण कार्यदायी संस्था द्वारा कराये जाने के मामले की जांच करने स्वयं विभागीय अधिकारियों के साथ मौके पर जायेंगे और यदि सड़क निर्माण में मानकों का पालन नहीं किया जा रहा है तो वह कार्यदायी संस्था के विरुद्ध कार्यवाही कर उसके भुगतान पर रोक लगाने में पीछेे नहीं हटेंगे।

  Similar Posts

Share it
Top