हटाये जाने लगे होर्डिंग बैनर

2017-01-05 11:30:30.0

हटाये जाने लगे होर्डिंग बैनर

उरई-जालौन (राहुल गुप्ता) निर्वाचन आयोग द्वारा उत्तर प्रदेश में चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही प्रशासन हरकत में आ गया और जिला मुख्यालय के प्रमुख मार्गो पर लगे होर्डिंग बैनर हटाने के लिए वकायदा अभियान चलाया गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हो या फिर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव या फिर सपा, भाजपा, कांग्रेस, बसपा, के स्थानीय नेता नगर पालिका परिसर उरई की जेसीबी ने जरा सी देर में सभी को जमीन पर धड़ाम कर दिया।

आसन्न विधानसभा चुनाव को देखते हुए भाजपा एवं सपा में सबसे अधिक होर्डिंगवार छिड़ा हुआ था जहां भाजपा की केन्द्र सरकार के द्वारा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बड़े-बड़े होर्डिंग जगह-जगह टांगे गए थे वहीं होर्डिंगवार में प्रदेश की समाजवादी पार्टी सरकार भी पीछे नही थी। चूंकि एक केन्द्र की सत्ता में तो दूसरी प्रदेश की सत्ता में है ऐसे में दोनों दलों के बीच होर्डिंगवार छिड़ा हुआ था। शहर के लगभग हर जगह इन दोनों सरकारों के द्वारा अपनी उपलब्धियों से सराबोर प्रदेशीय एवं राष्ट्रीय नेताओं की फोटो के साथ होर्डिंग बैनर टांगे गए थे। लेकिन आज जैसे ही तारीखों की घोषणा निर्वाचन आयोग के द्वारा की गई वैसे ही पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारी हरकत में आ गए। जिलाधिकारी संदीप कौर एवं पुलिस अधीक्षक डा. राकेश कुमार सिंह नगर मजिस्ट्रेट अनिल मिश्रा, अपर पुलिस अधीक्षक सुभाष चंद्र शाक्य, क्षेत्राधिकारी सदर, अरूण कुमार सिंह, शहर कोतवाल संजय गुप्ता, नगर पालिका परिषद उरई के अधिशाषी अधिकारी रविन्द्र कुमार, सफाई निरीक्षक, अवर अभियंता, की अगुवाई में नगर पालिका की फौज शहर में जगह-जगह टांगे गए होर्डिंग पर टूट पड़ी और देखते ही देखते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तक के होर्डिंग जमीन पर धरासायी हो गए जिन्हें नगर पालिका के वाहनों में कूड़े कचड़े के मानिन्द टै्रक्टरों में भरकर नगर पालिका कार्यालय के कचड़ा खाने में फेंक दिया गया। टाउन हाल से लेकर शहीद भगत सिंह चैराहा, अंबेडकर चैराहा, जिला परिषद सहित लगभग सभी मार्गो पर लगी होर्डिंग बैनरों को हटाने का काम युद्धस्तर पर चलाया गया। इस दौरान सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए थे। नगर पालिका पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों के द्वारा चलाए जा रहे होर्डिंग एवं बैनर हटाओ अभियान के चलते लोगों को जाम की स्थिति से भी जूझना पड़ा। शहर में सबसे अधिक होर्डिंगवार भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच छिड़ा हुआ था।
कालप एवं माधौगढ विधान सभा क्षेत्र से टिकट की दावेदारी करने वाले नेताओं की होर्डिंग भी जिला मुख्यालय उरई पर टंगी हुई थी कमोबेश यही स्थिति समाजवादी पार्टी एवं बहुजन समाज पार्टी एवं कांग्रेस की भी थी। उरई सुरक्षित सीट से भाजपा से टिकट की दावेदारी करने वाले भाजपा कार्यकर्ताओं की होर्डिंग सबसे अधिक देखे जा रहे थे लेकिन आज चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही सारे नेताओं एवं कार्यकर्ताओं की होर्डिंग, बैनर जमीन पर आ गए। अपर पुलिस अधीक्षक सुभाष चंद्र शाक्य ने बताया कि निर्वाचन आयोग के सख्त निर्देश है कि किसी भी राजनैतिक दल के होर्डिंग बैनर दिखाई नही देना चाहिए। उन्होंने कहा कि होर्डिंग बैनर हटाने के साथ ही जिन राजनैतिक दलों के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं ने चुनाव चिन्ह के साथ जगह-जगह बालपेटिंग कराई उन्हें भी अपनी बाल पेटिंग साफ करानी होगी। जहां-जहां भी जिन लोगों की बालपेटिंग होगी उन नेताओं को जिला निर्वाचन अधिकारी द्वारा पहले ही बालपेटिंग साफ कराने की हिदायत दी जा चुकी है।

  Similar Posts

Share it
Top