बरेली पुलिस की बल्ले बल्ले, दबोच लिए लुटेरे

2017-06-07 13:45:55.0

आज बरेली पुलिस की बल्ले बल्ले हो गयी, पुलिस ने एसटीएफ की मदद से करीब ढाई करोड़ कीमत की लूट का खुलासा कर दिया है। पुलिस ने दो सुन्हारों समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक इनके पास से आठ किलो सोना, साढ़े पांच लाख नकद और लूट में इस्तेमाल कार बरामद की है। बरेली पुलिस के इस खुलासे से खुश होकर प्रदेश सरकार की तरफ से एक लाख रुपये के इनाम की घोषणा की गई है।

शनिवार को सर्राफा व्यापारी प्रदीप अग्रवाल का ढाई करोड़ का सोना लखनऊ से बरेली लाया जा रहा था, सोना लेकर प्रदीप के ससुर अभिलाष अग्रवाल, ड्राइवर इमरान और मुंशी रामचन्द्र बरेली आ रहे थे। रास्ते में फतेहगंज पूर्वी थाना क्षेत्र में बदमाशों ने कार को ओवरटेक कर रोक लिया और हथियारों के दम पर करीब आठ किलो सोना लूट लिया, इसकी कीमत ढाई करोड़ रुपये बताई जा रही है। इस बड़ी लूट की घटना से पुलिस विभाग में हड़कम्प मच गया था। एसएसपी ने घटना के खुलासे के लिए कई टीमें लगाई थीं। घटना की बाबत बताते हुए एसएसपी जोगेंद्र कुमार ने बताया कि घटना स्थल का मुआयना और पीड़ित से पूछताछ के बाद यह साफ हो गया था कि घटना के पीछे किसी ने मुखबरी की है। इसके बाद पुलिस ने सर्राफा व्यापारी के कर्मचारी और पूर्व कर्मचारियों की कुंडली खंगालना शुरू किया तो सर्राफ के पूर्व ड्राइवर मनोज का नाम सामने आया। सर्विलांस और अन्य तकनीकी साधनों से ये पुष्टि भी हुई कि मनोज कहीं न कहीं इस मामले में शामिल है, इसके बाद जब पुलिस ने मनोज के घर पर दबिश दी तो मनोज घर से गायब मिला, पुलिस ने कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए सर्राफा के एक और पूर्व ड्राइवर शत्रुघ्न को हिरासत में लिया, इसके बाद घटना का खुलासा हो गया.. मनोज को मालूम था कि प्रदीप अग्रवाल का तीन से चार दिन में सोना बरेली आता है और मनोज भी सैकड़ों बार प्रदीप का सोना ला चुका था.. इसके बाद सोनू, प्रदीप कोहली, शत्रुघ्न, अरुण और संतोष के साथ मिलकर लूट की योजना बनाई... बदमाश सुनसान इलाके टिसुआ में खड़े हो गए और जैसे ही सर्राफ की कार क्रासिंग से गुजरी मनोज ने अपने साथियों को फोन कर दिया, इसके बाद बदमाशों ने लूट की घटना को अंजाम दे डाला।

पुलिस ने घटना में शामिल सोनू उर्फ सरबजीत, प्रदीप कोहली, शत्रुघन सिंह के साथ ही लूट का माल खरीदने वाले किला इलाके के दो सुनारों सचिन और वीरेंद्र को गिरफ्तार कर लिया जबकि मनोज, अरुण और संतोष अभी भी फरार हैं।

  Similar Posts

Share it
Top