जीजा ने अपने दोस्त के साथ मिलकर की थी साले की हत्या

2017-02-28 12:30:00.0

जीजा ने अपने दोस्त के साथ मिलकर की थी साले की हत्या

मदनापुर थाना प्रभारी रजी अहमद ने किया एक साल पहले हुई हत्या का खुलासा

एसपी केबी सिंह ने दिये पुलिस टीम को उत्साह वर्धन हेतु 5000 हजार रुपए

मदनापुर/शाहजहांपुर (संदीप शर्मा) मदनापुर पुलिस द्वारा रिश्तों को तार तार करने वाले इस प्रकरण का खुलासा किया गया थाना मदनापुर पुलिस ने जिस तरह दोषियों को गिरफ्तार कर निर्दोषों को बचाया है उसकी हर जगह प्रशंसा हो रही है और एसपी केवी सिंह ने पुलिस टीम को इस घटना का सफल वर्क आऊट करने पर उत्साह वर्धन हेतु 5000 रुपए देने की घोषणा की है।
मामला गुज़री 17 अगस्त को थाना मदनापुर छेत्र के ककरौआ में नहर की पुलिया के पास झाडियों के किनारे एक युवक का शव बरामद हुआ था मृतक की पहचान शाहजहांपुर के थाना मदनापुर के गांव ककरौआ पुत्र हरनाम सिंह के पुत्र नीरज के रुप में हुई थी मृतक की माँ सोमवती की तहरीर पर थाना मदनापुर में ककरौआ गांव के ही चार व्यक्तियों कौशल मदनपाल मुकेश और अनूप के विरुध हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। विवेचना के दौरान पुलिस को मालूम हुआ की मृतक के पिता की वर्ष 2014 में ट्रेक्टर से एक्सिडेंट में मृत्यु हो गयी थी और ट्रेक्टर चलाने वाले कौशल पुत्र रामकुमार पर मुकदमा दर्ज हुआ था मृतक उक्त अभियोग में वादी था जिसके कारण कौशल उन लोगों से रंजिश रखता था इसी कारण मृतक नीरज की माँ सोमबती ने कौशल और अन्य तीन लोगों के नाम लिखाये थे।
पुलिस द्वारा की गयी विवेचना साक्ष्य व सर्विलांस की मदद के आधार पर विवेचना करते हुए स्थानीय लोगों से जानकारी प्राप्त हुई कि शव बरामद होने वाले दिन एक चपटी नाक वाला व्यक्ति वहाँ घूमता हुआ देखा गया जो क्षेत्रीय नहीं लग रहा था।
मृतक नीरज के सगे बहनोई अमित कुमार पुत्र धारण सिंह नि0 ग्राम ककराह थाना जलालाबाद व उसके दोस्त जीशान खाँ पुत्र मतलूम खाँ नि0 मोह गौसनगर थाना जलालाबाद से पूछताछ की गयी तो अमित कुमार ने बताया की मृतक नीरज उसका साला था और वो शराब पीने का आदी था शराब पीकर अपनी माँ और मेरी पत्नी को परेशान करता था मेरा परिवार बड़ा होने के कारण मेरी पत्नी को परेशानी हो रही थी वो चाहती थी कि मैं उसके साथ उसके घर जाकर रहूँ परन्तु अपने साले (मृतक नीरज) की आदत के चलते ऐसा हो पाना सम्भव नहीं था इसलिए मैने अपने दोस्त जीशान खाँ के साथ मिलकर अपने साले की हत्या की योजना बनायी इससे मुझे दो फायदे होते मैं अपनी पत्नी के साथ अपनी ससुराल में रहता और मेरा इकलौता साला जिसकी हत्या के बाद उसकी सारी सम्पत्ति मेरी और मेरी पत्नी के नाम हो जाती।
आरोपी ने पुलिस को बताया कि 2016 की 14 अक्तूबर को नीरज सावन में तीज का सामान लेकर मेरे घर आया 15 तारीख को भी मेरे घर ही रहा और 16 तारीख को सुबह 8 बजे मेरे साथ मेरी गाड़ी मैजिक नम्बर यूपी27 टी 6949 पर बैठकर अपने घर के लिये चल दिया मैने नीरज को पूरे दिन शराब पिलाई और दिन भर गाड़ी में घुमाता रहा शाम के समय मैने सरैया मोड़ से आगे गैस गोदाम के पहले गाड़ी खड़ी करके अपने दोस्त जीशान को बुलाया फिर हम तीनो ने मिलकर शराब पी नीरज को ज्यादा पिलाई इसी बीच मैने नीरज से उसके चचेरे भाई अर्जुन को फोन करवाया और कहलवा दिया कि वह मदनापुर आ चुका है थोड़ी देर में घर आ जायेगा इसके बाद नीरज बेहोश हो गया।
उसके बाद मैने और जीशान खाँ ने गर्दन दबाकर उसकी हत्या कर दी उसके बाद दोनो लोग गाड़ी से उसकी लाश को उसी के गाँव स्थित नहर पुलिया के पास झाडियों के किनारे छिपा दिया परन्तु लाश को छिपाते समय गाड़ी का चार्जर वहीं गिर गया था जिस चपटी नाक वाले को लोगों ने वहां घूमते हुए देखा था वो जीशान ही था जो चार्जर लेने वहां गया था लाश को हम लोगों ने गाँव के किनारे इसलिये डाला था कि इसकी हत्या का शक गाँव वालों पर हो क्योंकि मैं जानता था कि उसकी पिता की हत्या को लेकर रंजिश चल रही है।
अमित और जीशान हत्या के प्रकाश में आने से ही फरार चल रहे थे उक्त दोनो लोगों को कल यानी 27 फरवरी को शाम के समय गिरफ्तार किया गया इनके द्वारा अपने जुर्म का इकबाल किया गया है और इनकी निशान देही पर जीशान के घर से मृतक नीरज का बैग तथा उसमे रखी राखियों पुलिस द्वारा बरामद कर घटना का खुलासा किया गया और अभियुक्तों का चालान कर दिया गया।
खबरों से लगातार अपडेट रहने के लिए एवीएन की एप्प इंस्टाल करिये - https://play.google.com/store/apps/details?id=com.ally.avnn

  Similar Posts

Share it
Top