और जब थाना बण्डा बन गया मैदाने जंग

21 May 2019 6:30 PM GMT

यूपी के शाहजहांपुर जिले का थाना बंडा, जोकि आज जंग का मैदान बन गया।

दरअसल कुछ महीने पहले ढका घनश्याम गांव में बैंक ऑफ बड़ौदा से फर्जी लोन लेने के आरोप में आरोपी को पुलिस घर से उठा लाई थी, उसे निकालने के लिए लोगों ने थाने को जंग का अखाड़ा ही बना दिया, कई बार अफसरान के समझाने के बाद भी लोग नहीं माने।

हालांकि इससे पहले भी फर्जी लोन मामले में कई लोग जेल जा चुके हैं,लेकिन आज जो हुआ ऐसा कभी नहीं हुआ, आज भारतीय किसान यूनियन के मैकू लाल यादव की अगुवाई में सैकड़ों की भीड़ ने थाना घेर लिया और पुलिस विरोधी नारे लगाने शुरू कर दिए।

कहा जा रहा है कि यह भीड़ सिर्फ फर्जी लोन के आरोपी को छुड़ाने ही नहीं बल्कि एक और केस के सिलसिले में भी इकटठा हुई थी, दरअसल गुजरी 2 मई को अमरजीत नामक युवक की हत्या में उसकी मां को आरोपी बनाया गया था जिसमें दिखाया गया था कि अमरजीत की मां ने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अमरजीत की हत्या कर दी थी, इसी को लेकर मुड़िया सावन के लोगों ने इसका विरोध जताते हुए कहा कि कत्ल की आरोपी बनाई गई मृतक मां को छोड़ा जाए,धीरे धीरे लोगों की भीड़ बढ़ती गई और कुछ खुराफाती लोग भी उसमें शामिल हो गए,पुलिस की गाड़ियां रोक ली गई और थाने का गेट बंद कर दिया गया, करीब 7 घंटों की मशक्कत के बाद पुलिस के आश्वासन के बाद कुछ नेताओं ने आरोपी को तो जाने दिया लेकिन अमरजीत की मां को भी छुड़वाने पर तुले हुए थे इस मौके को देखते हुए सीओ और कई थानों से फोर्स मंगा ली गई।

हमारे स्टेट ब्यूरो चीफ संदीप शर्मा और उनकी सहयोगी रमनदीप कौर ने मौके पर पहुंचकर घटना का सच जानने की कोशिश की,तब पता चला कि महिला को छुड़ाना तो एक बहाना था,यह भीड़ तो फर्जी लोन के आरोपी को छुड़ाने के लिए जमा हुई थी जिसमें भारतीय किसान यूनियन के नेता शामिल थे,सारा बवाल कराने के बाद खुद नेता ही पुलिस पुलिस के साथ आरोपी अपनी गाड़ी में लेकर कोर्ट ले गए।

शाहजहांपुर से रमनदीप कौर के साथ संदीप शर्मा की रिपोर्ट

  Similar Posts

Share it
Top