UP ELECTION 2022

मंचों और पालतू मीडिया में हुए अभूतपूर्व विकास का एक और सच

सांसदों और विधायकों के इलाक़ा बाज़ी में गुलाम जनता मुंह तक रही है। कि शायद विकास नाम की हवा इधर से फी गुज़रे। लेकिन बेचारे गुलाम वोटरों को पता नहीं था कि वे जिसे प्रतिनिधि बनाना रहे हैं वह सीधे भस्मासुर बनेगें। ये जो तस्वीरे आप देख रहे हैं ये गुज़रे बीस साल से ज्यों कि त्यों हैं सासंदों और विधायकों में इलाक़ा बाज़ी चल रही है बरेली लोकसभा और आंवला लोकसभा का बार्डर है। साथ ही बिथरी विधान सभा और बरेली कैण्ट विधान सभा का भी बार्डर है। दोनो सांसद और विधायक भाजपाई हैं बरेली सांसद सन्तोष गंगवार कई बार केन्द्र में मंत्री रहे जबकि कैण्ट विधायक राजेश अग्रवाल यूपी में कैबिनेट मंत्री रहे। लेकिन शर्म किसी को नहीं आई। दोनो सांसदों और विधायकों मे इलाक़ा बाज़ी चल रही है। बात इलाके की है तो केन्द्रीय या यूपी में मंत्री बनने के बाद तो पूरा देश पूरा प्रदेश ही इन बम्बईया भाईयों का इलाक़ा बन जाता है। लेकिन बात वही है कि जनता आजतक गुलाम ही है