UP ELECTION 2022

चुनावी बिगुल बजते ही विकास की बाढ़ आई - ठेंगे पर आचार संहिता

मेम्बर मेयर विधायक सांसद मुख्य मंत्री तक सब एक ही लॉबी के। विकास या काम के नाम पर सिर्फ़ ठेंगा। हां मन मानी की हाल ये है कि ना आचार संहिता का पालन ना चुनाव आयोग का ख़ौफ़। चुनाव आयोग तो खुद ही बी जे पी के सामने भीगी बिल्ली बना दिखता है। इसलिए भाजपाईयों के सामने आयोग पूरी तरह बेबस नज़र आता है। कल हमने आपको बरेली रामपुर रोड पर आचार संहिता लागू होने के बाद शुरू किये गये काम से रुबरु कराया था। आचार संहिता को घेंगा दिखाती कुछ और तस्वीरें आपको दिखाते हैं। ये तस्वीरें हैं बरेली के सिटी रेलवे स्टेशन के पीछे वंशी नंगला की। ग़ुज़रे 25-30 साल से जो आम सड़क नहीं बनाई गई वो सड़क यूपी विधान सभा चुनाव का बिगुल बजने के बाद शुरु कर दिया गया। साथ ही ये तस्वीरें भी देखिये। ये नज़ारा भी इसी बंशी नगला की हैं। यहां के ये हालात हमेशा से ही यानी बीस पच्चीस साल से हैं। मेम्बर मेयर विधायक सांसद मुख्य मंत्री प्रधान मंत्री तक सभी एक ही लॉबी के हैं विकास की बाढ़ आप तस्वीरों में देख सकते हैं। ये तस्वीरें ही सबूत हैं *यूपी को नम्बर वन स्मार्ट प्रदेश* कहने के लिए